चुप रहने से अत्याचार करने वाले का हौसला बढ़ता जाता है : एसपी

  • Post By Admin on Oct 28 2020
चुप रहने से अत्याचार करने वाले का हौसला बढ़ता जाता है : एसपी

रामगढ़ : महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों पर नियंत्रण के लिए सख्त कानून बनाये गए है। लेकिन ये तब तक प्रभावी साबित नहीं होंगे, जब तक कि समाज की सोच में बदलाव नहीं होगा। महिलाओं को अपने साथ होने वाली ज्यादती की शिकायत करने की हिम्मत दिखानी होगी। चुप रहने से अत्याचार करने वाले का हौसला बढ़ता जाता है। ये बाते बुधवार को रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार ने वेबिनार के दौरान कही। एसपी प्रभात कुमार की अध्यक्षता में श्री अग्रसेन स्कूल के क्लास 9 से 12 तक के विद्यार्थियों और शिक्षकों के साथ महिलाओं के ऊपर होने वाले अपराध को रोकने के तरीकों के संबंध में वेबिनार का आयोजन किया गया।

एसपी ने कहा कि जब आप अपराध के खिलाफ चुप्पी साध लेते हैं, तो स्थिति बद से बदतर होने लगती है। इसलिए ऐसी कोई भी दिक्कत महसूस होने पर शुरुआत में ही जरूरी कदम उठाएं। पुलिस-प्रशासन हर वक़्त आपके साथ है। सिर्फ आप अपनी बात कहने की हिम्मत जुटाएं। उन्होंने कहा कि आपके साथ घर से लेकर समाज, कहीं भी गलत हो सकता है। पुलिस ने आपकी सुरक्षा के लिए कई हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। जिस पर बेझिझक अपनी बात बताकर आप तत्काल सहायता पा सकती हैं। उन्होंने बताया कि रामगढ़ जिले में औसतन हर महीने आत्महत्या के 10 मामले सामने आते हैं। जिनमे 8-9 महिलाएं होती है। इन महिलाओं ने यदि समय पर अपनी बात कहने का हौसला जुटाया होता, तो शायद इनकी जिंदगी बचाई जा सकती थी। इस दौरान उन्होंने सभी से इस तरह के मामलों से संबंधित किसी भी तरह की सूचना सीधे उनके मोबाइल नंबर पर देने की बात कही।

जिले में है डेडिकेटेड महिला थाना

वेबिनार में एसपी ने बताया कि जिले में डेडिकेटेड महिला थाना संचालित है। यहां महिलाओं की शिकायत सुनने और उसे दूर करने के लिए महिला पदाधिकारी नियुक्त हैं। इसके अलावा व्हाट्सएप्प नंबर 8252910623 पर भी शिकायत भेजी जा सकती है। डायल 100 या ट्विटर हैंडल @ramgarhpolice पर भी शिकायत दर्ज कराई जा सकती है। मोबाइल फोन के लिए महिलाएं शक्ति एप्प को डाउनलोड करें। जरूरत के समय यह एप्प भी बेहद कारगर साबित होगा। इसके अलावा आप एसपी के फ़ोन 9431706113 पर भी सूचित कर सकते है।

चुप्पी किसी समस्या का समाधान नहीं : एसडीओ 

वेबिनार के दौरान अनुमंडल पदाधिकारी कीर्ति श्री ने कहा कि महिलाओं को अपने अधिकार जानने चाहिए, ताकि जरूरत पड़ने पर वे उसका इस्तेमाल कर सकें। चुप्पी किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। महिला को सिर्फ सामाजिक या आर्थिक रूप से ही सशक्त होने की जरूरत नहीं है, बल्कि कानूनी रूप से अपने अधिकारों के प्रति सजग और सशक्त होना चाहिए। उन्होंने कहा कि पुलिस-प्रशासन द्वारा जारी हेल्पलान नंबर की सुविधा आपके लिए है। इसका इस्तेमाल करें। इनपर आनेवाली शिकायतों की लगातार समीक्षा और आवश्यक कार्यवाई की जाती है।

जिला समाज कल्याण पदाधिकारी नचिकेता मिश्रा ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ होनेवाले अपराध को रोकने के लिए समाज कल्याण विभाग पुलिस-प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रही है। विभाग द्वारा कई योजनाएं संचालित की जाती है। हमारे पास आनेवाले रिपोर्ट में यह देखा जाता है कि 93 प्रतिशत मामलों में महिला के घर-परिवार या सगे-संबधी जुल्म करते हैं। लेकिन महिलाएं झिझक या शर्म के कारण इन मामलों को दबाए रखती हैं। उन्होंने कहा कि रामगढ़ जिले में बरकाकाना, कोठार और चितरपुर में चाइल्ड हेल्पलाइन (फ़ोन संख्या- 1098) कार्यरत है। जहां 18 वर्ष से कम उम्र की बच्चियां अपनी समस्या रख सकती हैं। स्कूल के निदेशक प्रवीण राजगढ़िया ने कहा कि रामगढ़ पुलिस की यह कोशिश निश्चित तौर पर महिला सुरक्षा के लिए कवच बनेगी।