लॉक डाउन तोड़ने वाले को पुलिस ने बनाया मुर्गा

  • Post By Admin on Mar 24 2020
लॉक डाउन तोड़ने वाले को पुलिस ने बनाया मुर्गा

कानपुर। कोरोना वायरस से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने कानपुर नगर जिले को लॉकडाउन घोषित कर दिया है। इसके बावजूद लॉकडाउन के पहले दिन सोमवार को लोगों ने लापरवाही बरती, जिसकी जानकारी शासन तक पहुंच गयी और प्रशासन को फटकार लगी। इसी के चलते दूसरे दिन मंगलवार को प्रशासन और पुलिस ने सख्ती बरती और लोगों को घरों में रहने के लिए सख्त हिदायत दी। फिर भी कुछ लोग पुलिस को आइना दिखाने के लिए बाहर निकले तो पुलिस ने अपना काम शुरु कर दिया और लोगों को मुर्गा बनाकर सजा देना शुरु किया। इसके साथ ही कई जगहों पर लॉकडाउन को तोड़ने वालों के खिलाफ चालान भी काटा गया। पुलिस की सख्ती से अब शहर में कर्फ्यू जैसे नजारा दिखने लगा है। 

कोरोना वायरस के चलते सरकार द्वारा घोषित लॉकडाउन को तोड़ने वाले लोगों के खिलाफ पुलिस ने सख्त रवैया अपनाना शुरु कर दिया है। मंगलवार को दूसरे दिन कानपुर में पुलिस और प्रशासन ने ऐसे लोगों पर निगाहें टेढ़ी कर दी। कहीं पर लोगों को मुर्गा बनाया गया, तो कहीं हाथ खड़े करके उनको धूप में सजा दी गई। कहीं पर थाने लाकर उनको बंद किया गया तो कहीं पुलिस ने चालान किया। कुल मिलाकर पुलिस ने अब सख्त कदम उठा लिया है। जाजमऊ चौराहे पर पुलिस अधिकारियों ने नियमों का उल्लंघन करने पर युवकों को लाइन से खड़ा करके मुर्गा बना दिया। इस दौरान उनसे नियम न तोड़ने का संकल्प दिलाया गया। यह नजारा जिसने भी देखा वह हैरान रह गया। कानपुर के दूसरे इलाको में युवकों को हाथ खड़े करके नियम न तोड़ने की शपथ दिलाई गई। इस दौरान लोगों के वाहनों के चालान भी किए गए। पुलिस ने सख्ती से पेश आते हुए बड़ी संख्या में लोगों पर कार्रवाई भी की है। इससे एक बात तो समझ में आ गई कि कोरोना वायरस के चलते जारी लॉकडाउन में अब पुलिस कोई भी ढिलाई बरतने वाली नहीं है। ट्रेनी आईपीएस सूरज राय ने बताया कि जो भी व्यक्ति लॉकडाउन को तोड़ेगा तो पुलिस उससे सख्ती से निपटेगी। 

लॉकडाउन में दिखने लगा कर्फ्यू जैसा नजारा

कोरोना वायरस के खतरे के बावजूद एक दिन पहले जिस तरह से सड़कों पर लॉकडाउन की धज्जियां उड़ाई गईं, उसके बाद दूसरे दिन आज मंगलवार को पुलिस का सख्त रुख लोगों के सामने रहा। सुबह 11 बजे की तय समय सीमा खत्म होने के बाद पूरे शहर में पुलिस सड़क पर उतर आयी। जगह-जगह चेकिंग कर सड़क पर घूम रहे लोगों को वापस भेजा गया। इस दौरान पुलिस ने वह प्रयोग भी किया, जो हरियाणा और मध्य प्रदेश में चल रहा था। हालांकि, सुबह 11 बजे से पहले सब्जी, दूध समेत अन्य जरुरी सामान लेने के लिए लोगों की भीड़ बाजारों में दिखाई दी। शहर की सड़कों पर जगह-जगह बेरीकेडिंग कर सख्त चेकिंग की जा रही है। हालांकि, चेकिंग के दौरान भी कई लोग सड़कों पर उतरे और तमाम तरह के बहाने पुलिस के सामने बताते रहे, लेकिन पुलिस ने सख्त रुख अपनाते हुए लोगों को घर वापस भेज दिया। आवश्यक सेवाओं में आने वाले लोगों को ही सिर्फ जाने की अनुमति दी गई. सीटीआई, विजयनगर में एक तरफ का रास्ता जहां बंद रखा गया, वहीं कोका कोला क्रॉसिंग पर एक तरफ का रास्ता बंद कर दिया गया। पुलिस की सख्ती से साफ है कि शहर की सड़कों पर कर्फ्यू जैसे नजारा दिखने लगा है। जो लोग सड़क पर भीड़ लगाए खड़े थे, उन्हें भी वापस अपने घरों की तरफ भेजा गया। कहीं-कहीं पर पुलिस ने लाठी पटककर भी लोगों को वापस खदेड़ा। सड़क पर जो भी निकला, उसे पुलिस की सख्त पूछताछ का सामना करना पड़ा।

पुलिस ने लिया गांधीगिरी का सहारा

कहीं-कहीं पर पुलिस ने उस गांधीगिरी का भी सहारा लिया, जिसकी फोटो हरियाणा और मध्यप्रदेश के जिलों से वायरल हो रही हैं। इसमें सड़क पर उतरे लोगों को ‘मैं समाज का दुश्मन हूं’ के स्लोगन लिखे कागज पकड़ाकर उनकी फोटो भी खिंची। वहीं कहीं पर सड़क पर ड्यूटी कर रहे पुलिस कर्मियों के लोग अपने घरों से चाय का भी इंतजाम करते हुए दिखे। 

बताते चलें कि सोमवार को ढील बरतने से लोगों ने जमकर लापरवाही की थी। इसी के चलते देर शाम पुलिस ने विशेष अभियान चलाया था और चार सौ से अधिक लोगों का चालान भी किया था और आज भी चालान की प्रक्रिया चल रही है, जिससे अब लोगों में पुलिस का खौफ साफ देखा जा रहा है। एसएसपी अनंत देव ने कहा कि शासन के आदेश के मुताबिक लॉकडाउन को सख्ती से लागू किया जा रहा है और जो भी इसको तोड़ने का काम करेगा उस पर पुलिस कार्रवाई करने से पीछे नहीं हटेगी।