मां की हैवानियत : पांच साल की मासूम को गर्म चाकू से दागा

  • Post By Admin on Jul 20 2022
मां की हैवानियत : पांच साल की मासूम को गर्म चाकू से दागा

गोरखपुर : "मां" शब्द से ही ममता की भावना झलकती है। प्रेम और ममता की प्रतिक होती है मां। कहा भी गया है कि पूत कपूत हो सकता है लेकिन माता कभी कुमाता नहीं हो सकती। लेकिन कलियुग में कुछ भी असंभव नहीं शायद। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से एक कलयुगी मां की ऐसी करतूत सामने आई है जिसने हर किसी को सकते में डाल दिया है। एक मां ने अपनी 5 साल की बेटी को चाकू गर्म कर 17 जगह दाग दिया। बच्ची की केवल यही गलती थी कि उसके चाचा ने उसे स्कूल छोड़ा और वो थोड़ी ही देर में वहां से वापस आ गई। इस बात से वो इतनी नाराज हुई कि उसने बेटी को कमरे में बंद कर दिया और चाकू गरम कर उसके शरीर के अलग-अलग हिस्‍सों को जला दिया। इसके बाद बच्ची के पिता ने गीडा थाने में पत्नी के खिलाफ शिकायत दर्ज की।

प्राप्त जानकारी के अनुसार आरोपी महिला और उसके पति का प्रेम-विवाह था जो उनके परिजनों को पसंद नहीं था। जिसकी वजह से दोनों पति-पत्नी अपने परिवार वालों से अलग रह रहे थे। शादी के बाद इनकी दो बेटियां पैदा हुईं। राहुल के मुताबिक वह मंगलवार सुबह काम पर गया था। 5 साल की बेटी को उसके चाचा ने स्कूल छोड़ा था। थोड़ी ही देर में बेटी स्कूल से वापस आ गई। इससे नाराज होकर उसकी मां ने गैस चूल्हे पर चाकू गर्म कर बच्ची के हाथ और पैर को लगभग 17 जगह जला दिया जिससे बच्ची गंभीर रूप से घायल हो गई।

वहीं, चाचा ने बताया कि घर के अंदर कमरा बंद कर मां उसे जला रही थी। बच्ची के रोने की आवाज सुनकर उसके साथ खेलने वाली एक दूसरी बच्ची ने आस-पास के लोगों को बुलाया। जिन्होंने कमरा खुलवाकर बच्ची को घायल अवस्था में कमरे से बाहर निकाला। पति का आरोप है कि उसकी पत्नी ने कई बार इसी तरह से बच्ची को दागा है। वो छोटी बेटी को भी बात-बात में पटक देती है। हर बार वह समझाता था, लेकिन इस बार जब उसने हद कर दी। तंग आकर उसे पुलिस में शिकायत करनी पड़ी। पुलिस ने बताया कि कंचन के खिलाफ धारा 324 के तहत केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

मंगलवार रात करीब 9.30 बजे थाने में पूछताछ के बाद बच्ची को जलाने वाली मां को पुलिस ने छोड़ दिया। रात में घर पहुंची मां को अपने किए पर जरा भी शर्मिदंगी नहीं थी। वो जोर-जोर से चिल्ला-चिल्लाकर यही कह रही थी कि मेरी बेटी है, मैं उसके साथ जो चाहूंगी वो कंरूगी।