बिहार में मस्जिद के निकट चल रहे मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन

  • Post By Admin on Dec 09 2021
बिहार में मस्जिद के निकट चल रहे मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन

बेगूसराय:  बिहार के बेगूसराय में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की टीम ने गुरुवार को गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी कर मस्जिद के समीप एक मकान में चल रहे मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन किया है।मौके पर से बड़ी भारी मात्रा में हथियार और सिक्का के साथ दो कारीगर को गिरफ्तार किया गया है। जबकि हथियार बनवाने और सप्लाई करने का मुख्य सरगना पुलिस के आने की भनक लगते ही फरार हो गया।

एसटीएफ को यह सफलता सिंघौल ओपी क्षेत्र के लडुआरा गांव में मिली है। बिहार पुलिस के स्पेशल टास्क फोर्स की टीम को सूचना मिली थी कि लडुआरा गांव में मोहम्मद अफजल के घर पर हथियार बनाने की मिनी फैक्ट्री चल रही है। सूचना मिलने के बाद पटना एसटीएफ की टीम ने स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर गुरुवार की दोपहर लडुआरा गांव में इमामबाड़ा के समीप वाले मस्जिद के बगल में स्थित मोहम्मद अफजल के घर पर छापा मार दिया। जहां की घर के ऊपरी मंजिल के कमरे से चार पिस्टल, आठ मैगजीन, बम बनाने के लिए रखा गया करीब 120 किलो सिक्का, भारी मात्रा में अर्ध निर्मित हथियार, पिस्टल बनाने का औजार, नगद रुपया तथा दो कारीगर को गिरफ्तार किया गया है।

गिरफ्तार कारीगर मुंगेर जिला के मुफस्सिल थाना क्षेत्र स्थित मिर्जापुर बरदह निवासी मोहम्मद शमशेर आलम एवं मोहम्मद भूट्टो है। गिरफ्तार कारीगर से पूछताछ के आधार पर एसटीएफ एवं स्थानीय पुलिस मामले की छानबीन तथा गिरोह के उद्भेदन करने के साथ-साथ फरार हथियार कारोबारी की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी कर रही है। एसटीएफ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिखावटी तौर पर मुर्गा एवं टेंट का कारोबार करने वाला मोहम्मद अफजल काफी लंबे समय से हथियार का कारोबार करता था तथा हथियार बनाने एवं तस्करी से उसने काफी संपत्ति हासिल कर ली। अपने आलीशान घर के ऊपरी मंजिल पर ही कारीगर को रखकर हथियार बनवाकर सप्लाई करता था। बताया जा रहा है कि लूट और डकैती समेत कई कांडों का नामजद आरोपी अफजल जेल भी जा चुका है। हथियार के साथ भारी मात्रा में बम बनाने के लिए रखा गया सिक्का बरामद होने से एसटीएफ और पुलिस चौंक गई है। आशंका जताई जा रही है कि इस गिरोह का तार अंतरराज्यीय अपराधी गिरोह से जुड़ा हुआ है तथा पिस्टल और बम सहित हथियार बनाकर उत्तर प्रदेश एवं अन्य सीमावर्ती राज्यों में भी सप्लाई किए जाते थे।