डीजल चोरी करने वाले गिरोह के आठ सदस्य हुए गिरफ्तार

  • Post By Admin on Dec 13 2021
डीजल चोरी करने वाले गिरोह के आठ सदस्य हुए गिरफ्तार

सहारनपुर: पुलिस ने एक गिरोह के आठ सदस्यों को गिरफ्तार किया है, जो इंडियन ऑयल कंपनी की पाइप लाइन में अलग-अलग जगह से सेंध लगाकर डीजल चोरी किया करता थे। यह गिरोह अब तक करीब एक लाख लीटर डीजल चोरी कर चुका है। चोरी किए गए इस डीजल की कीमत लगभग एक करोड़ रुपये मानी जा रही है। पहले पुलिस इस मामले को हल्के में ले रही थी, लेकिन जब कंपनी ने सीधे उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के डीजीपी से शिकायत की तो पुलिस सक्रिय हुई और इस गैंग को पकड़ा।

सहारनपुर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर के पूछताछ में गिरोह के सदस्यों ने बताया कि पिछले करीब दो वर्षों से पानीपत से सहारनपुर-रुड़की को होते हुए नजीबाबाद जा रही आईओसी की पाइप लाइन से डीजल चोरी कर रहे थे। सरसावा और गागालहेड़ी क्षेत्र में भी इन्होंने कई घटनाएं की थी। यह गैंग करीब एक करोड़ रुपये कीमत का डीजल चोरी कर चुका था। चोरी का डीजल मुजफ्फरनगर के एक पेट्रोल पंप पर बेचा जाता था। पूछताछ में यह बात साफ हुई है कि इसके लिए मुजफ्फरनगर डीएसओ विभाग में तैनात एक बाबू को महीना भी दिया जाता था। प्राथमिक जांच में यह भी पता चला है कि जिस पेट्रोल पंप पर चोरी का डीजल भेजा जा रहा था उसने पिछले दो वर्षों से कोई डीजल खरीदा ही नहीं था। उस पेट्रोल पंप पर दो वर्षों से चोरी का ही डीजल बेचा जा रहा था।

पुलिस की पूछताछ और प्राथमिक जांच पड़ताल में कुछ ऐसे लोगों के नाम भी सामने आए हैं जो मोबाइल टावर पर डीजल आपूर्ति करते थे। यह लोग भी वहां से डीजल चोरी करके इस गैंग के द्वारा चोरी के डीजल को मुजफ्फरनगर के उसी बायोडीजल पेट्रोल पंप पर बेचा करते थे। गैंग के आठ सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इन का मुखिया बागपत का रहने वाला संदीप है। अभी 15 सदस्य फरार हैं जिनकी तलाश की जा रही है।

इस खुलासे पर सहारनपुर पुलिस को एडीजी और अपर मुख्य सचिव गृह ने एक-एक लाख का नगद पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की है। एसएसपी आकाश तोमर के अनुसार गैंग को पकड़ने वाली टीम सरसावा थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह, स्वाट टीम प्रभारी जयबीर सिंह और सर्विलांस टीम प्रभारी अजब सिंह और अभी सूचना विंग के प्रभारी अजय प्रसाद गौड़ व उनकी टीम को एडीजी मेरठ राजीव सभरवाल ने एक लाख और अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने एक लाख रुपये नकद पुरस्कार देने की घोषणा की है।

यहां से किया था डीजल चोरी

पकड़े गए अभियुक्तों ने बताया कि इन्होंने 27 मार्च 2020 को कुआ खेड़ा लक्सर से डीजल चुराया था। फिर 26 जून 2020 को भूमि लक्सर से चोरी की। फिर 12 अगस्त 2020 को कुआं खेड़ा लक्सर से डीजल चोरी किया। इसके बाद 3 जनवरी 2021 को चुड़ियाला भगवानपुर से, 21 फरवरी 2021 को अकोडा खुर्द लक्सर से और 19 मार्च 2021 को कुतुबपुर लक्सर से डीजलचोरी किया। इसी तरह से इन्होंने 8 जुलाई 2021 को शाहजहांपुर लक्सर से, 23 अगस्त 2021 को आगवानहेड़ा सरसावा से, 18 सितंबर 2021 को बुड्ढा खेड़ा गागलहेड़ी से पाइप लाइन में सेंध लगाकर डीजल चोरी किया। 13 अक्टूबर 2021 को शाहजहांपुर लक्सर से इन्होंने 5 नवंबर 2021 को बेरखेड़ी सरसावा से, 27 नवंबर 2021 को कदरगढ़ सरसावा से, डीजल चोरी की घटना को अंजाम दिया। यह लोग अपने साथ टैंकर रखा करते थे और टैंकर में सीधे डीजल चोरी किया करते थे। अब तक यह गैंग करीब एक करोड रुपए का डीजल चोरी कर चुका है