राष्ट्रीय चेतना के विकास के लिए सभी भारतीय संविधान सभा में हुई चर्चाओं को पढ़ें: उपराष्ट्रपति

  • Post By Admin on Dec 09 2021
राष्ट्रीय चेतना के विकास के लिए सभी भारतीय संविधान सभा में हुई चर्चाओं को पढ़ें: उपराष्ट्रपति

नई दिल्ली: उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने गुरुवार को कहा कि सभी भारतीयों को संविधान सभा की चर्चाओं और संसद में राष्ट्रीय नेताओं के वक्तव्यों को पढ़ना चाहिए। इससे हमारी राष्ट्रीय चेतना विकसित होगी।

उल्लेखनीय है कि 1946 में आज के दिन संविधान सभा की पहली बैठक संसद भवन के केंद्रीय कक्ष में आहूत की गई थी।

इस अवसर पर उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि एक राष्ट्र के रूप में हम सभी भारतीय संविधान के उन विद्वान शिल्पियों का सम्मान करते हैं। उनका आग्रह होगा कि हम संविधान सभा में हुई बहसों, हमारे राष्ट्रीय नेताओं के संसद में दिए गए भाषणों को पढ़ें। इससे हमारी राष्ट्रीय चेतना विकसित होगी।

उन्होंने कहा कि इस ऐतिहासिक दिन पर संवैधानिक मर्यादाओं के प्रति अपनी आस्था को दोहराएं और हमारे राष्ट्रीय नायकों के सपनों के भारत के लिए अपनी प्रतिबद्धता को दृढ़ करें। उनकी पुण्य स्मृति को यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

नायडू ने कहा कि संविधान सभा की पहली बैठक के साथ ही अगले लगभग 3 वर्षों की संविधान सभा की यात्रा प्रारंभ हुई। सारगर्भित मंथन के फलस्वरूप हमारे संविधान का निर्माण हुआ, जिसने हमारे राष्ट्रीय जीवन को दिशा प्रदान की।